UPSC(Union Public Service Commission)

GRADUATE LEVEL:-

Indian Forest Service Examination (IFoS)

Engineering Services Examination (ESE)

Combined Medical Services Examination (CMS)

Combined Defence Services Examination (CDS)

Central Armed Police Forces Examination (CAPF)

Indian Economic Service Examination (IES) and Indian Statistical Service Examination (ISS)

10+2 / INTER LEVEL:-

National Defence Academy (NDA)

Naval Academy Examination (NA)

UPSC EXAM PREVIOUS QUESTION

UPSC EXAM CALENDER

upsc

परिचय:-

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) भारत सरकार का एक महत्वपूर्ण संगठन है जो सरकारी सेवाओं में उम्मीदवारों की भर्ती के लिए जिम्मेदार है। UPSC का मुख्य कार्य विभिन्न स्तरों की सिविल सेवाओं, संविदात्मक सेवाओं, और अन्य संबंधित सेवाओं के लिए उम्मीदवारों की चयन प्रक्रिया को संचालित करना है।

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) क्या है?

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) भारत सरकार की एक महत्वपूर्ण संस्था है जो सरकारी सेवाओं में उम्मीदवारों की भर्ती के लिए परीक्षाएं आयोजित करती है। यूपीएससी का गठन 1 अक्टूबर 1926 को किया गया था और यह न्यायपालिका के उच्चतम न्यायालय के निर्देशन में काम करता है। इसका मुख्य कार्य भारत सरकारी सेवाओं में विभिन्न पदों की भर्ती के लिए योग्य उम्मीदवारों का चयन करना है।

प्रस्तावित नौकरियों की रेंज:-

UPSC की परीक्षाएं योग्यता और प्रतिबद्धता की मापदंड होती हैं। इन परीक्षाओं को पार करने से आप भारतीय सरकारी सेवाओं में उच्च पदों पर काम करने का अवसर प्राप्त कर सकते हैं और समाज में सकारात्मक परिवर्तन करने का माध्यम बन सकते हैं।
UPSC का उद्देश्य न केवल सरकारी नौकरी प्रदान करना है,बल्कि यह आपको एक विशेष योग्यता से भरपूर और समर्पित सेवा के अवसर की दिशा में मार्गदर्शन करने का भी कार्य करता है।

UPSC द्वारा आयोजित परीक्षाएं:-

1.सिविल सेवा परीक्षा (CSE):प्रसिद्ध पदों जैसे कि आईएएस, आईपीएस, आईएफएस,आदि की भर्ती के लिए आयोजित की जाती है,विभिन्न सरकारी सेवाओं में।
2.भारतीय वन सेवा परीक्षा (IFoS):सिविल सेवा परीक्षा के साथ आयोजित की जाती है,भारतीय वन सेवा में अधिकारियों की भर्ती के लिए।
3.इंजीनियरिंग सेवा परीक्षा (ESE):इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए होती है, सरकारी विभागों में तकनीकी पदों को भरने के लिए।
4.संयुक्त चिकित्सा सेवा परीक्षा (CMS): यह परीक्षा विभिन्न सरकारी स्वास्थ्य संगठनों में चिकित्सा अधिकारियों की भर्ती के लिए आयोजित की जाती है।
5.संयुक्त रक्षा सेवाएं परीक्षा (CDS):विभिन्न रक्षा अकादमियों में अधिकारी बनने के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए।
6.केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की परीक्षा (CAPF):केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों में सहायक कमांडेंट्स की भर्ती के लिए।
7.भारतीय आर्थिक सेवा परीक्षा (IES)और भारतीय सांख्यिकी सेवा परीक्षा (ISS):ये परीक्षाएं अर्थशास्त्रीय और सांख्यिकीय पदों की भर्ती के लिए होती हैं।
8.राष्ट्रीय रक्षा अकादमी और नौसेना अकादमी परीक्षा (NDA & NA):यह भारतीय सेना, नौसेना और वायुसेना में अधिकारी बनने का मार्ग प्रदान करती है।

UPSC तैयारी के लिए युक्तियाँ:-

UPSC परीक्षाओं की तैयारी के लिए समर्पण और रणनीतिक दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है। यहां ध्यान रखने योग्य कुछ सुझाव दिए गए हैं:
1.स्वाधीनता और नियमितता:UPSC की तैयारी के लिए स्वाधीनता और नियमितता आवश्यक है। नियमित अध्ययन और प्रैक्टिस से ही सफलता मिलती है।
2.सिलेबस की समझ:परीक्षा के सिलेबस को समझना महत्वपूर्ण है। आपको जानना चाहिए कि कौन-कौन से विषयों पर ध्यान केंद्रित करना है और कौन-कौन से विषयों को छोड़ देना है।
3.अच्छी पुस्तकें और संसाधनों का चयन:अच्छी स्टडी मटेरियल और पुस्तकों का चयन करना महत्वपूर्ण है। सही संसाधनों की मदद से आपकी तैयारी प्रभावी होगी।
4.विधिवत प्रयोगशील पढ़ाई:अध्ययन के साथ-साथ विधिवत प्रैक्टिस भी करना महत्वपूर्ण है। मॉक टेस्ट्स और पिछले वर्षों के पेपर्स से अभ्यास करना आपकी प्रदर्शन क्षमता को बेहतर बना सकता है।
5.समय प्रबंधन:अपने समय का सही तरीके से प्रबंधन करना आवश्यक है। विभिन्न विषयों के लिए समय निर्धारित करें और पर्याप्त समय आखिरी समीक्षा और प्रैक्टिस में खर्च करें।
6.स्वस्थ शारीरिक और मानसिक स्थिति:तैयारी के दौरान स्वास्थ्य और मानसिक स्थिति का ध्यान रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है। नियमित व्यायाम, आहार और प्राणायाम से स्वस्थ रहने का प्रयास करें।
7.सकारात्मक मानसिकता:आत्म-संवाद को सकारात्मक रूप में बनाए रखना महत्वपूर्ण है। स्थिर मानसिकता और संवाद क्षमता से आपकी तैयारी प्रभावी होगी।
8.समृद्धि और उत्साह:तैयारी के दौरान समृद्धि और उत्साह बनाए रखना आवश्यक है। आत्म-प्रोत्साहन को बढ़ावा देने वाले उत्कृष्ट विचार और स्थिर दृष्टिकोण का उपयोग करें।
9.सोशल मीडिया का सफलता में उपयोग:सोशल मीडिया का सही तरीके से उपयोग करके आप तैयारी से जुड़े रह सकते हैं,स्टडी ग्रुप्स में शामिल हो सकते हैं और नए विचार प्राप्त कर सकते हैं।
10.आत्म-मॉनिटरिंग और सुधार:आपको नियमित अंतराल पर अपने प्रगति का मॉनिटरिंग करना और आपकी कमिटमेंट को सुनिश्चित करने के लिए सुधार करना आवश्यक है।

Spread the love