upsc hindi optional syllabus latest

परिचय(Introduction) :

UPSC परीक्षाओं में वैकल्पिक विषय चुनने में कई विकल्प होते हैं। हिंदी साहित्य को अपने वैकल्पिक विषय के रूप में चुनना हिंदी भाषा, उसके सामृद्ध्य विचारों, और सांस्कृतिक महत्त्व की खोज का माध्यम हो सकता है। चलिए, upsc hindi optional syllabus को समझते हैं, इसके मूल घटकों को समझते हैं, और सफलता के मार्ग पर चर्चा करते हैं।

upsc hindi optional syllabus को अपने वैकल्पिक विषय के रूप में क्यों चुनें?

UPSC के वैकल्पिक विषय के रूप में हिंदी चुनने के कई कारण हो सकते हैं। यहाँ कुछ मुख्य कारण दिए गए हैं जो इसे चुनने के लिए विशेष बना सकते हैं:

  1. रुचि और प्रियता: हिंदी भाषा और साहित्य में रुचि रखने वाले छात्रों के लिए यह वैकल्पिक विषय उत्कृष्ट हो सकता है। इससे पढ़ाई में रुचि और प्रियता बढ़ सकती है।

  2. सांस्कृतिक महत्त्व: हिंदी साहित्य और भाषा का अध्ययन करके छात्र सांस्कृतिक दृष्टिकोण से भी समृद्ध हो सकते हैं।

  3. विभाषिक योग्यता: हिंदी के प्रतियोगी परीक्षाओं में भाषा की योग्यता एक महत्त्वपूर्ण तत्व होता है, जिसे इस वैकल्पिक विषय के माध्यम से स्थापित किया जा सकता है।

  4. करियर के लिए महत्त्वपूर्ण: हिंदी भाषा और साहित्य के विशेषज्ञों की मांग नियोक्ताओं द्वारा बनी रहती है, जो आपको शैक्षिक, सरकारी या अन्य क्षेत्रों में नौकरी प्राप्त करने में मदद कर सकती है।

  5. विचारों का विस्तार: हिंदी साहित्य का अध्ययन करने से आप अपने विचारों को व्यक्त करने का और सामाजिक रूप से महत्त्वपूर्ण विषयों पर अपने दृष्टिकोण को बढ़ा सकते हैं।

इसलिए, हिंदी को यूपीएससी के वैकल्पिक विषय के रूप में चुनने से आपके व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों ही क्षेत्रों में विकास हो सकता है।

upsc hindi optional syllabus को समझना

पेपर I: युगों के माध्यम से हिंदी साहित्य

  1. प्राचीन और मध्यकालीन हिंदी साहित्य: हिंदी साहित्य की समृद्ध विरासत की खोज, उसकी प्रारंभिक जड़ों से लेकर मध्यकाल तक।
  2. भक्ति और ऋति काल का साहित्य: भक्ति आंदोलन के दौरान हिंदी के भक्ति और शैलीक साहित्य की गहराईयों में जाना।
  3. आधुनिक हिंदी साहित्य: आधुनिक हिंदी लेखकों और कवियों के विकास और योगदान को समझना।
  4. नाटक और निबंध: प्रसिद्ध हिंदी नाटकों और निबंधकारों का विश्लेषण, समाजीय दृष्टिकोण की संवेदनशीलता को पकड़ना।
  5. आलोचना और साहित्यिक प्रवृत्तियाँ: साहित्यिक आलोचना और हिंदी साहित्य में हमेशा बदलती रुचियों का अध्ययन।

पेपर II: हिंदी भाषा और भाषाविज्ञान

  1. हिंदी भाषा संरचना: हिंदी भाषा के भाषाविज्ञानिक पहलुओं, व्याकरण, और वाक्य-रचना को समझना।
  2. ध्वनितत्त्व और ध्वनिविज्ञान: हिंदी भाषाविज्ञान में ध्वनियों और उच्चारण पैटर्न का विश्लेषण।
  3. शब्दरूप और वाक्य-रचना: हिंदी में शब्द-संरचना, वाक्य निर्माण, और व्याकरणीय नाटक।
  4. हिंदी बोली और सामाजिक भाषाविज्ञान: विभिन्न क्षेत्रों में बोली जाने वाली हिंदी की भिन्नताओं और सामाजिक पहलुओं का अध्ययन।
  5. भाषा और साहित्य: हिंदी अध्ययन के माध्यम से भाषा सिद्धांत और साहित्यिक व्याख्याओं का संबंधितीकरण।

तैयारी रणनीतियाँ(Preparation Strategies) :

  1. व्यापक पढ़ाई: विभिन्न युगों की हिंदी साहित्यिक रचनाओं में डूबना, विभिन्न शैलियों और प्रकारों को समझने के लिए।
  2. भाषा की प्रैक्टिस: हिंदी में पढ़ाई, लिखाई, और बोलचाल की नियमित प्रैक्टिस करके भाषा को सुधारें।
  3. विश्लेषणात्मक प्रस्तुति: गहरी समझ और विचारों को साकार करने के लिए विश्लेषणात्मक दृष्टिकोण विकसित करें।
  4. पिछले सालों के पेपर्स: पिछले सालों के प्रश्न पत्रों का अध्ययन करें ताकि परीक्षा के पैटर्न और प्रश्नों को समझें।
  5. चर्चा और संशोधन: चर्चा में शामिल हों, स्टडी ग्रुप्स को ज्वाइन करें, और नियमित अभ्यास करें।

upsc hindi optional syllabus books in hindi medium

यूपीएससी हिंदी साहित्य वैकल्पिक के लिए, यहां हैं पेपर 1 और पेपर 2 के लिए पांच-पांच सुझाए गए पुस्तकें हिंदी माध्यम में:

पेपर 1:

  1. “आदिकाल से रसकाल” रामचंद्र शुक्ल द्वारा (Adikal Se Raskal by Ramchandra Shukla)
  2. “हिन्दी काव्य का इतिहास” नागेन्द्र द्वारा (Hindi Kavya Ka Itihas by Nagendra)
  3. “हिंदी साहित्य का इतिहास (साहित्य के नायक)” रामचंद्र वर्मा द्वारा (Hindi Sahitya Ka Itihas (Sahitya Ke Nayak) by Ramchandra Varma)
  4. “काव्यालंकार” आचार्य रामचंद्र शुक्ल द्वारा (Kavya Alankar by Acharya Ramchandra Shukla)
  5. “साहित्य सिद्धांत और साहित्यकार” बाबू शंकर दीन द्वारा (Sahitya Siddhant Aur Sahityakar by Babu Shankar Deen)

पेपर 2:

  1. “हिंदी नाटक का इतिहास” बिशेश्वरप्रसाद द्वारा (Hindi Natak Ka Itihas by Bisheshwar Prasad)
  2. “आधुनिक हिंदी उपन्यास” डॉ. नागेन्द्र द्वारा (Aadhunik Hindi Upanyas by Dr. Nagendra)
  3. “हिंदी उपन्यास का साहित्य सादन” प्रेमचंद द्वारा (Hindi Upanyas Ka Sahitya Saadan by Premchand)
  4. “हिंदी गद्य साहित्य” नाथमल द्वारा (Hindi Gadya Sahitya by Nathmal)
  5. “हिंदी भाषा और लिपि” नाथमल द्वारा (Hindi Bhasha Aur Lipi by Nathmal)

ये पुस्तकें यूपीएससी हिंदी साहित्य वैकल्पिक परीक्षा के लिए पेपर 1 और पेपर 2 के लिए महत्त्वपूर्ण विषयों और लेखकों को कवर करती हैं। हमेशा सबसे हाल की संस्करण और अपडेट्स की जाँच करें ताकि सबसे उपयुक्त और सटीक जानकारी मिल सके।

upsc hindi optional syllabus books in English medium

Sure, here are five books each for both Paper 1 and Paper 2 of the UPSC exam for Hindi Literature:

Paper 1:

  1. “Bharat Bharati” by Maithili Sharan Gupta: This epic poem showcases Indian culture and heritage.
  2. “Kabir Granthawali” by Kabir: A collection of the poet-saint Kabir’s verses, expressing spiritual wisdom and social issues.
  3. “Kamayani” by Jaishankar Prasad: It’s an epic poem exploring human emotions, philosophy, and history through mythical characters.
  4. “Madhushala” by Harivansh Rai Bachchan: A collection of poems on diverse themes like life, society, and human aspirations.
  5. “Rashmirathi” by Ramdhari Singh ‘Dinkar’: An epic based on the Mahabharata, focusing on Karna’s life and his moral dilemmas.

Paper 2:

  1. “Premchand: His Life and Times” by Amrit Rai: A biography of Munshi Premchand, a prominent figure in Hindi literature.
  2. “Chhayavad” by Namvar Singh: It discusses the literary movement Chhayavad and its significance in Hindi literature.
  3. “Rachnavali” by Mahadevi Varma: A collection of poems, essays, and stories by Mahadevi Varma, a noted Hindi writer and poet.
  4. “Hindi Sahitya Ka Itihas” by Ramchandra Shukla: This book provides a comprehensive history of Hindi literature.
  5. “Hindi Upanyas: Parampara aur Pratiman” by Ram Vilas Sharma: It discusses the tradition and symbolism in Hindi novels.

These books cover a range of literary works and critical writings in Hindi literature, offering a comprehensive understanding of the subject for both papers in the UPSC exam.

निष्कर्ष(Conclusion):

यूपीएससी वैकल्पिक पाठ्यक्रम के रूप में हिंदी साहित्य का चयन करना केवल एक विकल्प नहीं है; बल्कि यह हिंदी के समृद्ध विरासत और सांस्कृतिक महत्त्व का जश्न मनाने का माध्यम हो सकता है। साहित्यिक रत्नों का स्वागत करें, भाषाविज्ञान की जटिलताओं में डूबें, और हिंदी साहित्य की विविधतम दुनिया में खुद को तैयार करें संजीवनी भावना और समर्पण के साथ।

upsc hindi optional syllabus in hindi PDF DOWNLOAD

upsc hindi optional syllabus in ENGLISH PDF DOWNLOAD

OFFICIAL WEBSITE

Spread the love

Leave a Reply